मानव त्वचा की गुणवत्ता को गंभीर रूप से खराब कर सकती हैं एमवे की सनस्क्रीन क्रीम

लेखक : उन्मेष गुजराथी

12 Jan, 2023

उन्मेष गुजराथी
www.sproutnews.com

स्प्राउट्स (Sprouts) की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) ने हाल ही में किए गए एक शोध में खुलासा किया कि मल्टी लेवल मार्केटिंग (Multi-Level Marketing (MLM) कंपनी होने का दावा करने वाली एमवे (Amway) द्वारा भारत में बेची जाने वाली बहुप्रचारित सनस्क्रीन क्रीम (sunscreen cream) में अवयवों (ingredients) सहित 17 जहरीले रसायन होते हैं जो मानव त्वचा के सूर्य के प्रकाश के संपर्क में होने पर यूवी फिल्टर्स (UV filters) के रूप में कार्य करते हैं.

सोडियम लॉरिल सल्फेट (Sodium Lauryl Sulfate) और सोडियम लॉरेथ सल्फेट (Sodium Laureth Sulfate) नाम के सोडियम डेरिवेटिव्स (Sodium derivatives) के अलावा कई हानिकारक अवयव हैं जिनमें इसके रंग घटक और सुगंध उत्प्रेरण एजेंट भी शामिल हैं. स्प्राउट्स की एसआईटी ने पुष्टि की है कि मानव शरीर पर हानिकारक दुष्प्रभावों वाले रसायनों के मामले में अवयवों (ingredients) को सबसे खराब दर्जा दिया गया है.

यह भी पाया गया कि यद्यपि यह बहुत महंगा उत्पाद है, लेकिन इसमें बहुत सस्ते रसायन होते हैं जो मानव त्वचा पर बार-बार लगाने से बहुत नुकसान पहुंचा सकते हैं. अभी तक भारतीय शहरों और कस्बों में बेचे जानेवाले इस उत्पाद के खिलाफ कई आरोप लगाए गए हैं.

इसी बीच, फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (Food and Drug Administration (FDA) अपने शोध निष्कर्षों को स्थापित करने में सक्षम रहा है कि सनस्क्रीन क्रीम के आम अवयवों में छह रसायन ऐसे हैं जो शरीर में अवशोषित हो जाते हैं और कुछ हफ्तों से अधिक समय तक शरीरी रहते हैं. जबकि इसका शोध इस दिशा में जारी है, एफडीए ने यह भी संकेत दिया है कि इसके परिणामस्वरूप नवजात शिशुओं के लिए जन्मजात दोष के अलावा महिलाओं की प्रजनन क्षमता में कमी आ सकती है.

स्प्राउट्स की एसआईटी ने यह भी पाया कि एसिड टेस्ट पास करने के लिए ऐसी क्रीमों का मानदंड “आम तौर पर सुरक्षित और प्रभावी के रूप में मान्यता प्राप्त” (Generally recognized as safe and effective (GRASE) की श्रेणी में आता है.

सुरक्षित विकल्प:
सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक धूप से बचें. यह वह समय होता है जब सूर्य की यूवी किरणें सबसे मजबूत अवस्था में होती हैं.
चौड़ी ब्रिम वाली हैट पहनें.
ऐसे कपड़े पहनें जो आपकी त्वचा को धूप से बचाएं.
टैनिंग बेड का इस्तेमाल न करें.
छांव में रहें.
छांव में भी सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.

17 हानिकारक जहरीले रसायन :
सोडियम लॉरिल सल्फ़ेट
सोडियम लौरेथ सल्फेट
डायमेथीकॉन (Dimethicone)
कोकामाइड मेया (Cocamide Mea)
मिथाइलक्लोरोआइसोथियाज़ोलिनोन (Methylchloroisothiazolinone)
पॉलीक्वाटरनियम – 6 (Polyquaternium – 6)
प्रोपलीन ग्लाइकोल (Propylene Glycol)
कार्बोमर (Carbomer)
लॉरेथ एन (Laureth n)
स्टीयरथ – 6 (Steareth – 6)
पेग- 100 स्टीयरेट (Peg- 100 Stearate)
पेग – एन (Peg – n)
ट्राइडेसेथ- एन (Trideceth- n)
एमोडिमेथिकोन (Amodimethicone)
बीएचटी (BHT)
मिथाइलिसोथियाज़ोलिनोन (Methylisothiazolinone)
टेट्रासोडियम एड्टा (Tetrasodium Edta)
डीएमडीएम हाइडेंटोइन (Dmdm Hydantoin)
सुगंधित इत्र (Fragrance perfume)
रंग (सीएल..) (color (Cl..)

संबंधित लेख व घडामोडी

दादासाहेब फाल्के पुरस्कार के नाम पर फलफूल रहा गोरखधंधा

दादासाहेब फाल्के पुरस्कार के नाम पर फलफूल रहा गोरखधंधा

 उन्मेष गुजराथीस्प्राउट्स एक्सक्लूसिव दादासाहेब फाल्के भारतीय सिनेमा के जनक हैं। आज कॉन ऑर्गेनाइजर फाल्के के नाम पर पुरस्कार बेच रहे हैं। ये पुरस्कार आमतौर पर 5,000 रुपये से लेकर 50,000 रुपये तक की राशि में बेचे जाते हैं। इतना ही नहीं, 'स्प्राउट्स' की विशेष जांच...

दादासाहेब फाळके यांच्या पुरस्काराच्या नावाने गोरखधंदा तेजीत

दादासाहेब फाळके यांच्या पुरस्काराच्या नावाने गोरखधंदा तेजीत

   उन्मेष गुजराथीsprouts Exclusive भारतीय चित्रपटसृष्टीचे जनक दादासाहेब फाळके यांच्या नावाने सध्या खिरापतीसारखे पुरस्कार वाटले जात आहेत. साधारणतः ५ हजार रुपयांपासून ते ५० हजार रुपयांपर्यंत रक्कम घेवून हे पुरस्कार विकले जातात. इतकेच नव्हे तर फिल्म इंडस्टीशी...

अर्थकारणाला वाहिलेलं ह्या पोर्टलवरून अर्थविश्वातील प्रत्येक क्षणाची घडामोड जाणून घेण्यासाठी

आमची समाजमाध्यमं

Sed ut perspiciatis unde omnis iste natus error sit voluptatem accusantium doloremque

मनी कंट्रोल न्यूज पोर्टल © २०२२. सर्व हक्क आरक्षित.