कैडबरी कर रही है भारतीय मिष्ठानों की हत्या

लेखक : उन्मेष गुजराथी

18 Feb, 2023

कैडबरी कर रही है भारतीय मिष्ठानों की हत्या

उन्मेष गुजराथी
स्प्राउट्स ब्रांड स्टोरी

कैडबरी इंडिया (Cadbury India), जिसने भारत में चॉकलेट उद्योग पर लगभग कब्जा कर लिया है और भारतीय मिष्ठान उद्योग को नष्ट कर दिया है, ने अपने विभिन्न ब्रांडों के माध्यम से कैलोरी (calories) और कोको (cocoa) की उच्च खुराक देना जारी रखा है, हालांकि कोको का अत्यधिक उपभोग स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है.

कैडबरी इंडिया के पास कैडबरी ड्रीम (Cadbury Dream), कैडबरी डेयरी मिल्क (Cadbury Dairy Milk) और कैडबरी व्हिस्पर्स (Cadbury Whispers) सहित उत्पादों का समूह है, जिन्हें “कुछ मीठा हो जाय” (Kuch Mitha Ho Jai) जैसे उच्च व्यावसायिक विज्ञापनों से जन्मदिन से लेकर शादी समारोह तक हर अवसर के लिए अनिवार्य बना दिया गया है. इसके अलावा कैडबरी उत्पादों को देशी मिठाइयों के विकल्प के रूप में पेश किया जाता है. हालांकि जो नज़र आता है उससे कहीं अधिक कुछ और है.

कैडबरी इंडिया की प्रतिभूतियों (securities) को पिछले साल जनवरी से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) से डीलिस्ट किया गया है क्योंकि इसके विदेशी मूल कैडबरी श्वेपेप्स (Cadbury Schweppes) और इसके सहयोगी ने भारतीय सहायक कंपनी में 90 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी हासिल कर ली है. हालांकि उच्च कैलोरी कैडबरी चॉकलेट (Cadbury chocolates) का हमला जारी है.

उपभोक्ता उत्पादों के लिए भारत में बहुराष्ट्रीय कंपनियां जिस तरह से देश में अपने उपभोक्ता आधार का विस्तार कर रही हैं, चिंताजनक पहलू है. यह निचले स्तर के स्थानीय निर्माताओं और विक्रेताओं की कीमत पर होता है.

यह चिंता का कारण बन गया है क्योंकि यह हमारे स्थानीय घरेलू उपभोक्ता उत्पादों की बाजार हिस्सेदारी पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है. उदाहरण के लिए कैडबरी इंडिया को लेते हैं.

अगर कोई देखे कि जिस तरह से यह कंपनी देश में अपने उपभोक्ता आधार का विस्तार करने में सफल रही है, तो इससे पैदा होने वाली समस्याएं और स्पष्ट हो जाती हैं. अस्सी के दशक में, कैडबरी चॉकलेट की लगभग 80% खपत में छोटे बच्चे शामिल थे.

उस समय, पंद्रह वर्ष से ऊपर के आयु वर्ग को इस उत्पाद का सेवन करने में शर्म महसूस होती थी क्योंकि इसे उनके आयु वर्ग के लिए बेमेल माना जाता था.

कैडबरी की क्रिएटिव टीम (creative team) हडल मोड (huddle mode) में गई और एक नया टेलीविजन विज्ञापन लेकर आई. इस विज्ञापन में क्रिकेट स्टेडियम में एक लड़की को उसके मुंह में कैडबरी के साथ नाचते हुए दिखाया गया था, जिसकी किशोरावस्था खत्म होने को थी.

वह क्रीज पर बल्लेबाज द्वारा लगाए गए एक बड़े छक्के के प्रतिसाद में नाच रही थी. यह विज्ञापन कैडबरी को युवा लोगों, लड़कियों और लड़कों दोनों की युवावस्था में एक आकांक्षा के रूप में स्थापित करने में सफल रहा. यह 2000 की शुरुआत में हुआ था. विज्ञापन बाजार के उन क्षेत्रों का विस्तार करने में सफल रहा जिन्हें कैडबरी लक्षित करना चाहता था.

कैडबरी ने अपने बाजार आधार का विस्तार करने के लिए जो अगला कदम उठाया, वह मध्यम वर्ग के घरों में इसे एक पारिवारिक उत्पाद के रूप में विज्ञापित करना था. “शुभ आरंभ” (Shubh Aarambh) (शुभ प्रारंभ) ब्रांडिंग ने ब्रांड के लिए भारत में अपने उपभोक्ता आधार का और विस्तार करने के लिए अद्भुत काम किया.

इसे फिर से सभी पारंपरिक भारतीय त्योहारों के लिए उचित विकल्प के रूप में कैडबरी प्रसारित करने वाले विज्ञापनों के साथ पूरक बनाया गया. नतीजतन, उत्पाद हमारे देश में निचले स्तर के स्थानीय मिष्ठान निर्माताओं की कीमत पर बहुत लोकप्रियता हासिल करने में सफल रहा है.

यह एक अच्छे मामले के अध्ययन के रूप में काम कर सकता है कि कैसे बहुराष्ट्रीय कंपनियां विशेष रूप से उपभोक्ता उत्पाद उद्योग में टेलीविजन पर प्रसारित होने वाले विज्ञापनों का अच्छा उपयोग करती हैं. हालांकि, यह उन लोगों के लिए भी आंखें खोलने वाला है जो स्थानीय घरेलू मिष्ठान निर्माताओं के वित्तीय हितों की रक्षा और संरक्षण करना चाहते हैं.

एक उत्सुक व्यापार पर्यवेक्षक ने सचेत करने के लिए एक उदाहरण का हवाला दिया. “चीनी कंपनियां पाकिस्तान के कपड़ा उद्योग में तेजी से निवेश करती रहीं. शुरू में किसी ने नोटिस नहीं किया. बाद में, यह महसूस किया गया कि चीनी निवेशों ने उनके देश में लगभग सारी स्थानीय उद्यमशीलता को मार डाला है.”

वे कहते हैं, “इसी तरह भारत में बहुराष्ट्रीय कंपनियां सॉफ्ट मार्केटिंग रणनीतियों का उपयोग करके अपने आधार का विस्तार कर रही हैं. देखने में ये रणनीतियां अहानिकर दिखती हैं और स्थानीय भावनाओं को आकर्षित करती हैं. हालांकि, वे स्थानीय और छोटे निर्माताओं से बाजार का एक बड़ा हिस्सा छीनने के लिए चरणबद्ध तरीके से काम करती हैं.”

कैडबरी के बचाव में मार्केटिंग प्रोफेशनल ए.वी. राजा (A. V. Raja) कहते हैं, “बहुराष्ट्रीय कंपनियां अक्सर अपने उत्पादों के लिए बाजार हिस्सेदारी हासिल करने के लिए पोजिशनिंग रूट का इस्तेमाल करती हैं. उनकी तरफ से कुछ भी अवैध या नैतिक रूप से गलत नहीं है. हालांकि, हमें यह स्वीकार करना होगा कि उनका भारी निवेश उन्हें कम पैसे वाले घरेलू निर्माताओं पर अनुचित लाभ देता है.”

यह पूछे जाने पर कि क्या उन पर झूठे दावे करने का आरोप लगाया जा सकता है, उन्होंने फिर कहा, “कैडबरी के उदाहरण में, वे स्वास्थ्य लाभ या उस मामले में किसी पोषण संबंधी लाभ का कोई दावा नहीं करते हैं. यह सिर्फ इस बारे में है कि लोगों को अलग-अलग अवसरों पर जश्न मनाने के बारे में कैसे निर्णय लेना चाहिए. यह विशुद्ध रूप से एक पोजिशनिंग गेम है. यह किसी कानूनी उपाय का वारंट नहीं है.”

इसके बाद उन्होंने यह कहते हुए निष्कर्ष निकाला, “हमारे देश में छोटे बनिया और किराना दुकानों के कारोबार में बड़ी खुदरा श्रृंखलाओं को देखें. यह एक समान प्रक्रिया है. यह हो सकता है कि हम अपने छोटे निर्माताओं के पक्ष में नीतिगत हस्तक्षेप की मांग कर सकते हैं.”

डेयरी मिल्क चॉकलेट के नुकसान और दुष्प्रभाव

अब आपके पास डेयरी मिल्क चॉकलेट के लाभों के बारे में एक स्पष्ट विचार है या अधिक पोषक तत्वों को लेने कौन सा बेहतर है. इसलिए इसमें कोई शक नहीं है कि कोको मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है, सभी तथ्य इस कोको का प्रतिशत हैं. नीचे कैडबरी डेयरी मिल्क चॉकलेट की हानियां बताई गई हैं.

कम पोषक तत्व
उच्च कैलोरी
स्वीटनर
मौखिक स्वास्थ्य
शर्करा सामग्री
माइग्रेन का खतरा
अस्थि स्वास्थ्य
हैवी मेटल्स

“पारंपरिक मिष्ठान या मिठाई की खपत भारत में बहुत अधिक है. चॉकलेट की खपत को बढ़ावा देने के लिए, कैडबरी ने पिछले कुछ वर्षों में कुछ मीठा हो जाए (चलो कुछ मीठा हो जाए) अभियान चलाया है, जो खुशियों और महत्वपूर्ण अवसर के दौरान कुछ मीठा खाने की भारतीय प्रवृत्ति से उधार लिया गया है.”

– Madhavi Lawre
सामाजिक कार्यकर्ता

संबंधित लेख व घडामोडी

गिरणी कामगारांच्या घरांचा होतोय काळाबाजार

गिरणी कामगारांच्या घरांचा होतोय काळाबाजार

गिरणी कामगारांच्या घरांचा होतोय काळाबाजार   उन्मेष गुजराथी  स्प्राऊट्स Exclusive  मुंबईमध्ये गिरणी कामगारांसाठी आरक्षित असणाऱ्या घरांच्या वाटपामध्ये मोठ्या प्रमाणात काळा बाजार होत आहे. हा काळा बाजार करणाऱ्या काही टोळ्या आहेत. या टोळ्यांतील लुटारूंनी 'गिरणी...

म’खाऊ’, बावनकुळे आणि पत्रकारांची ‘दुसरी’ दिवाळी

म’खाऊ’, बावनकुळे आणि पत्रकारांची ‘दुसरी’ दिवाळी

उन्मेष गुजराथी स्प्राऊट्स Exclusive भारतात नुकत्याच विधानसभेच्या निवडणुका पार पडल्या. यापैकी तेलंगणा वगळता बाकी तीनही राज्यांत भाजपाला बहुमत मिळाले. मात्र महाराष्ट्र्रातील जनता अजूनही 'मकाऊ'ला विसरायला तयार नाही. आजही 'मकाऊ' प्रकरण महाराष्ट्रात धुमसत आहे. आरक्षणाच्या...

M’Khau’, Bawankule and journalists’ ‘second’ Diwali

M’Khau’, Bawankule and journalists’ ‘second’ Diwali

Unmesh Gujarathi Sprouts Exclusive Legislative Assembly elections were recently held in India. Out of these, except Telangana, BJP got a majority in all the other three states. But the people of Maharashtra are still not ready to forget 'Macau'. Even today the 'Macau'...

अर्थकारणाला वाहिलेलं ह्या पोर्टलवरून अर्थविश्वातील प्रत्येक क्षणाची घडामोड जाणून घेण्यासाठी

आमची समाजमाध्यमं

Sed ut perspiciatis unde omnis iste natus error sit voluptatem accusantium doloremque

मनी कंट्रोल न्यूज पोर्टल © २०२२. सर्व हक्क आरक्षित.